सिंहासन बत्तीसी: पहली पुतली रत्नमञ्जरी : Ratnmanjri

May 02, 2018, 12:30 AM

पहली पुतली रत्नमंजरी राजा विक्रम के जन्म तथा इस सिंहासन प्राप्ति की कथा बताती है। आर्याव में एक राज्य था जिसका नाम था अम्बावती। वहाँ के राजा गंधर्वसेन ने चारों वर्णो क स्रियों से चार विवाह किये थे। ब्राह्मणी के पुत्र का नाम ब्रह्मवीत था। क्षत्राणी के तीन पुत्र हुए- शंख, विक्रम तथा भर्तृहरि। वैश्य पत्नी ने चन्द्र नामक पुत्र को जन्म दिया तथा शूद्र पत्नी ने धन्वन्तरि नामक पुत्र को। ब्रह्मणीत को गंधर्वसेन ने अपना दीवान बनाया, पर वह अपनी जिम्मेवारी अच्छी तरह नहीं निभा सका और राज्य से पलायन कर गया। कुछ समय भटकने के बाद धारानगरी में ऊँचा ओहदा प्राप्त किया तथा एक दिन राजा का वध करके ख़ुद राजा बन गया। काफी दिनों के बाद उसने उज्जैन लौटने का विचार किया, लेकिन उज्जैन आते ही उसकी मृत्यु हो गई।........आगे की कहानी के लिए सुनिए ये पॉडकास्ट.....सिंहासन बत्तीसी....

#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon #Singhasan Batteesi: Phlee PutliRatnmanjri

#सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: पहली पुतली रत्नमञ्जरी
 इस Podcast के अलावा और भी बहुत कुछ Radio-Audio variety Productions सुनने के लिए download करें Arpaa Radio App  https://play.google.com/store/apps/details?id=com.arpaaradio