Story of Crow and Owl क़ौवे और उल्लू का बैर Panchatantra

Aug 08, 2018, 02:39 PM

यह कहानी पंचतंत्र से है जो हमें यह बोध सिखलाती है की हमें दूसरों के काम में दख़ल नहीं देनी चाहिए । कहानी का सारांश कुछ ऐसा है । एक बार पक्षियों की एक सभा हुई, जिस में पक्षियों ने यह निर्णय लिया की गरुड़ को उनके राजा के पद से हटा देना चाहिए । उस की जगह किसी और पक्षी को राजा बनाना चाहिए । पक्षियों ने उल्लू को अपना राजा बनाने का निर्णय लिया । लेकिन क्या एक कौवा उस उल्लु को राजा बनने देगा?

जानिए इस कहानी को सुन कर ।

इस जैसी अन्य कहानियों को सुन सकते है बालगाथा पाड्कैस्ट पर. क्या आप जानते हैं की बालगाथा को आप Whatsapp पर सब्स्क्राइब कर सकते हैं? visit https://gaathastory.com/owls-crows-hindi/

This is a story from Panchatantra which teaches us a moral that w should not interfere in other persons' matters. Once a group of birds decides that Garud (eagle) should no longer remain the King of the Birds, and decide to appoint the Owl as their King instead. But will a crow allow this to happen? Listen to this story to learn more.