Mahalaya and Karna महालया का पर्व और कर्ण की कहानी

Sep 28, 2019, 08:57 AM

What is the significance of Mahalaya ? Listen to this story on Baalgatha

पितृपक्ष की अवधि गणपति उत्सव और नवरात्रि महोत्सव के बीच होती है। महालया वह समय है जब शोक या श्राद्ध पक्ष समाप्त होता है, और उस दिन को सर्वपितृ अमावस्या भी कहा जाता है। माना जाता है की देवी दुर्गा महालया के दिन पृथ्वी की यात्रा करने के लिए रवाना होती है । लेकिन क्या आप जानते हैं कि पितृ पक्ष या शोक के पखवाड़े का पालन कैसे शुरू हुआ ?

कर्ण की कहानी के माध्यम से हम इस सवाल का जवाब पाएँगे। महाभारत युद्ध में जब कर्ण मारा गया, तो उसकी आत्मा स्वर्ग चली गई ।  कर्ण अपनी उदारता के लिए जाने जाते थे और स्वर्ग में जाने बाद उन्हें वापस पंद्रह दीनो के लिए पृथ्वी पर आना पड़ा । ऐसे क्यू हुआ? जानिए इस कहानी को सुन कर।

इस कहानी को हम ने बालगाथा English पाड्कैस्ट पर भी आज हाई प्रदर्शित किया है।
अब आप ऐपल पॉडकास्ट, Google पॉडकास्ट, स्टिचर, स्पॉटिफ़ाई, जीयो सावन, कास्टबॉक्स, स्टोरियोह, और कई अन्य वेबसाइटों और ऐप्स पर आप बालगाथा हिंदी पॉडकास्ट सुनते हैं।
 
You can subscribe to Baalgatha Podcast on Apple Podcasts, Google Podcasts, Storiyoh, Stitcher, Castbox, Radio Public,  Spotify, and other fine websites and apps where you listen to podcasts.